आगरा

क्षय रोगी का होगा शुगर टेस्ट, मिलेगा इलाज

add 22
add 21
add 20
add 2
add 1
add 14
add 13
add 12
add 15

 

आगरा। क्षय रोग उन्मूलन को लेकर सरकार बेहद गंभीर है। टीबी अस्पताल समेत जनपद के सभी सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर टीबी के साथ मधुमेह (शुगर) की भी जांच की जाएगी।

कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वालों में टीबी की ज्यादा आशंका

जिन व्यक्तियों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है। उन्हें टीबी की आशंका सबसे ज्यादा रहती है। अब यदि किसी व्यक्ति को टीबी सुनिश्चित कर दी जाती है तो उसका शुगर टेस्ट करना भी अनिवार्य होगा। इनमें काफी केंद्रों पर लैब या ग्लूकोमीटर की सुविधा नहीं थी। इसके लिए एनसीडी सेल के नोडल अधिकारी के सहयोग से 30 ग्लूकोमीटर व स्ट्रिप जिला क्षय रोग विभाग को उपलब्ध कराई। ग्लूकोमीटर व स्ट्रिप सीनियर ट्रीटमेंट सुपरवाइजरों को दिए गए हैं।
जिला समन्वयक कमल सिंह ने बताया कि जिले में 52 बलगम जांच केंद्र, 26 टीबी यूनिट में टीबी की मुफ्त जांच की सुविधा है। इन सभी स्थानों पर संदिग्ध मरीजों की भी शुगर टेस्ट होगी। इससे लाभ यह होगा कि विभाग को शुगर के मरीजों का डाटा भी मिलता रहेगा। दवा के लिए डाट्स सेंटर व शुगर की दवाएं जिला अस्पताल व सीएचसी से उपलब्ध कराई जाती रहेगी।

टीबी के मरीजों की स्थिति
वर्ष मरीज
2018 … 12293
2019 … 23160
2020 … 16774
2021 — 4094
———–
टीबी के लक्षण
=भूख न लगना
=अचानक वजन कम होते रहना
=सीने में दर्द का अहसास होना।
=बार-बार बुखार आना।
=शरीर में अकड़न रहना
=रात में सोते समय पसीना आना

सभी केंद्रों पर टीबी के साथ एचआईवी व शुगर की जांच शुरू कर दी गई। किसी को एक सप्ताह से खांसी है तो सरकारी अस्पताल में पहुंचकर जांच कराएं।
डा.यूबी सिंह, जिला क्षय रोग अधिकारी

Related Articles

Back to top button
Close