मथुरा

ब्रज में गढा होली का डांढा, 40 दिन मचेगा होली का धूम

बसंत पंचमी पर श्रद्धालुओं के लिए खुला बसंती कमरा

add 22
add 21
add 20
add 2
add 1
add 14
add 13
add 12
add 15

 

मथुरा। बसंत पंचमी पर्व पर ब्रज में खेली जाने वाली विश्व प्रसिद्ध होली का डांढा गढ गया। चालीस दिन तक ब्रज में मचने वाले होली के धमाल की भी इसी के साथ शुरूआत हो गई। विश्व प्रसिद्ध ठाकुर बांके बिहारी मंदिर में बसंत पंचमी पर जमकर अबीर गुलाल उडा। दूसरे मंदिरों में भी इस परंपरा का निर्वान्ह हुआ। वृंदावन के सुप्रसिद्ध शाहजी मंदिर का बसंती कमरा खोला गया। जिसमें विराजमान श्रीजी ने भक्तों को दर्शन दिए। वर्ष में दो बार खुलने वाले बंसती कमरे में प्रभु के विशेष दर्शन के लिए बड़ी संख्या में भक्तों का तांता लगा। भक्तों में राजशाही विदेशी झाड़ों से रंगबिरंगी रोशनी के बीच प्रभु की एक झलक पाने के लिए होड़ मची रही। टेड़ेमेड़े खंबों के मंदिर के नाम से प्रसिद्ध शाहजी मंदिर में प्रभु दर्शन पाने के लिए सुबह से ही सैकड़ों की संख्या में भक्तों ने डेरा डाल दिया। प्रातरू दस बजे जैसे ही प्राचीन बसंती कमरा के पट खुलते ही श्रद्धालु प्रभु शाहबिहारी के दर्शन के लिए उमड़ पड़े। मंदिर के सेवायत शाह प्रशान्त कुमार ने भगवान का वेदमेत्रोंच्चारों के बीच विशेष पूजा अर्चना कर भव्य श्रृंगार किया। स्थानीय भक्तों के साथ देश के विभिन्न क्षेत्रों से आए श्रद्धालुओं ने भी प्रभु दर्शन का भरपूर आनन्द लिया। डांढ़ा गढ़ने के साथ ही भगवान श्रीकृष्ण के ब्रज में 40 दिवसीय होली महोत्सव की शुरुआत हो जाएगी। विश्वप्रसिद्ध लठामार होली का डांढ़ा झंडा पूजन के साथ गढ़ेगा। इस अवसर पर बरसाना स्थित लाडलीजी के महल (राधारानी मंदिर) को वसंती रंग में रंगा जाएगा। वृंदावन के बांकेबिहारी मंदिर में ठाकुरजी भक्तों संग होली खेलेंगे। आस्था के इस दिव्य रंग में सराबोर होने के लिए देश ही नहीं बल्कि विदेशों से हजारों भक्त ठाकुरजी के दर्शन करने मथुरा-वृंदावन पहुंचेंगे। ब्रज मंडल में वसंत पंचमी को होली का डांढ़ा गाढ़ने की परंपरा के साथ ही रंगोत्सव शुरू हो जाएगा। मंदिरों में ढप की थापों पर होली के गीतों का गायन, समाज गायन के साथ शुरू होने वाला उल्लास बरसाना में लठामार होली के साथ ही अपने शिखर पर पहुंच जाता है। 40 दिन तक चलने वाला रंगों का यह उत्सव बलदेव में हुरंगा के साथ ही संपन्न होता है।

Related Articles

Back to top button
Close