आगरा

चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव का राज्यमंत्री ने किया दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारम्भ

स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी एवं अमर शहीदों के परिजनों को किया गया सम्मानित

add 22
add 21
add 20
add 2
add 1
add 14
add 13
add 12
add 15

 

आगरा : राज्यमंत्री चौ0 उदयभान सिंह, महापौर नवीन जैन, विधायकगण पुरूषोत्तम खण्डेलवाल व रानी पक्षालिका सिंह, जिलाधिकारी प्रभु एन0 सिंह एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार द्वारा आज शहीद स्मारक, संजय प्लेस पर आयोजित चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव समारोह का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारम्भ तथा स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी सरोज कुमारी गौरीहार व विजय शंकर चतुर्वेदी के पौत्र अनिकेत चतुर्वेदी एवं अमर शहीद स्व0 देवेन्द्र सिंह की पत्नी पिंकी को सम्मानित किया गया। उपस्थित सभी लोगों द्वारा वन्देमातरम गीत का गायन किया गया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए राज्यमंत्री ने कहा कि चौरी-चौरा घटना भी भारतीय संस्कृति और भारतीय परम्पराओं को कायम रखने के लिए एक लड़ाई थी। उन्होंने कहा कि अन्याय के विरुद्ध, जो लड़ना जानता है, अन्याय के विरुद्ध, जो लड़ने का जज्बा रखता है, नियमों का पालन करते हुए देश के शहीदों के प्रति अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करने में अपनी कर्तव्य परायणता का परिचय देता है, वह भी निश्चित रूप से स्वतंत्रता संग्राम का वर्तमान सेनानी है। उन्होंने कहा कि आगरा जनपद जहाँ शहीदों की यादें बेहद ताजा है, यदि हम आज फव्वारे की बात कहें तो कभी फव्वारे पर केवल देश की परम्पराओं के लिए, देश की सभ्यता और सहिष्णुता को कायम रखने के लिए, देश की रीतियों एवं रिवाजों को लगातार आगे बढ़ाने के लिए गोकुला जाट ने अपनी आहुति एक दिन नहीं, लगातार 36 दिन दी। उन्होंने कहा कि यहां पर सिंघना गाँव, यहाँ पर कीठम गाँव, यहां पर कठवारी गाँव, यहाँ पर सहता गाँव, आगरा की एक-एक गली, एक-एक मोहल्ला, शहर हो और चाहे देहात हो, कोई गली, कोई शहर और कोई गाँव ऐसा नहीं था, जहाँ पर स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई लड़ने के लिए किसी ने कोई कमी छोड़ी हो। राज्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन द्वारा यह समारोह आगामी एक वर्ष तक किसी न किसी रूप में मनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि हमारा जलसा और हमारा उत्सव केवल इतना है कि हम नियमों का पालन करें, कर्तव्य परायणता के लिए जियें, केवल अपने लिए नहीं, देश के लिए जियें, प्रकृति के लियें एवं सृष्टि के लियें जियें और जो भी सृष्टि के लिए फलदायक हो सकता है, लाभदायक हो सकता है, अपने कर्तव्य परायणता में कहीं भी कोई कमी न छोड़ें। यह आज के कार्यक्रम की सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने कहा कि ईश्वर हमें सामर्थ्य दे कि जिन कारणों से, आकांक्षाओं को लेकर के, देश के शहीदों ने अपने प्राणों की आहुति दी थी, हम उन आकांक्षाओं को पूरा करने, कामयाब करने और लगातार आगे बढ़ाने में अपना अहम योगदान दें। कार्यक्रम में महापौर नवीन जैन एवं विधायक पुरूषोत्तम खण्डेलवाल ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

Related Articles

Back to top button
Close