मथुरा

धर्म ग्रंथों को पढ़कर अपने जीवन में उतारना ही हैं सच्ची भक्ति : कथा प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत कथा के चौथे दिन श्रद्वालुओं ने कृष्ण जन्मोत्सव का किया रसपान

add 22
add 21
add 20
add 2
add 1
add 14
add 13
add 12
add 15

 

मथुरा/गोवर्धन : गिरिराज परिक्रमा मार्ग स्थित रमणरेती आश्रम में श्रीमद्भागवत कथा के चौथे दिन व्यासपीठ से कथा प्रवक्ता श्रीरसिक विहारी विभु महाराज ने श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की कथा का श्रद्धालु भक्तों को रसास्वादन कराया गया। योगीराज भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव की कथा सुनक श्रद्धालु भक्त भावविभोर हो उठे। कथा प्रवक्ता विभु जी महाराज ने श्रोताओं को भगवान कृष्ण की भक्ति की ओर आकर्षित करते हुए कहा केवल धर्म ग्रंथों को पढ़ना मनुष्य के लिए भक्ति नहीं है, बल्कि धर्म ग्रंथों को अपने जीवन में उतारना ही सच्ची भक्ति है। इससे न केवल हम स्वयं का बल्कि समाज का कल्याण कर सकते हैं। श्रीराम, कृष्ण के आदर्शों को हम अपने जीवन में उतारकर परम उत्कर्ष को प्राप्त कर सकते हैं। बुधवार को श्रीमद्भागवत कथा के आयोजक राजेन्द्र गोयल व किशोरी लाल गोयल ने विधि विधान मन्त्रोच्चारण के साथ व्यास पूजन कर आरती उतारी। चंचल गोयल कीर्ति गोयल ने कथा पंडाल में श्रोता, भक्तगणों को उत्तरी उढ़ाकर स्वागत किया। इस अवसर पर सुमित गोयल, विपिन गोयल, प्रदीप वाजपेयी, कौशल शर्मा, वीरेंद्र शर्मा आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button
Close