सीतापुर

डेयरी के कारण फैली गंदगी से मौहल्ले के लोग परेशान

कभी दम तोड़ते गौवंश तो कही भैंस की जाती जान,आम जनता करे त्राहिमाम त्राहिमाम

3000
r 1000
WhatsApp Image 2020-12-31 at 6.53.15 PM
1000

मिशन इंडिया न्यूज़ संवाददाता- दीपक अग्रवाल

सीतापुर : एक ओर शासन का रिहायशी इलाकों से डेयरियों को दूर हटाने का ऐलान,वही दूसरी ओर सीतापुर नगर पालिका प्रशासन बना बैठा है एंक्रोचमेंट से अनजान।रिहायशी इलाकों में डेयरी के द्वारा फिलाई जा रही गंदगी व उससे पनपती बीमारियों से है सीतापुर जिले के आवास विकास मोहल्ले निवासी परेशान। डेयरी संचालकों के द्वारा उन गोवंश को छोड़ दिया जाता है जो अब दुग्ध नहीं दे रही है,जिसके कारण उन का भरण पोषण नहीं हो पाता और डेयरी संचालकों के द्वारा बेकद्री करते हुए इधर उधर भूखे भटक कर मरने के लिए छोड़ दिया जाता है।इसी प्रकरण में आज सीतापुर नगर क्षेत्र में स्थित आवास विकास मोहल्ले में मिली जानकारी के अनुसार डेयरी संचालकों के द्वारा छोड़ी गई गौ की हुई तालाब में डूबने से मृत्यु। योगी सरकार के द्वारा गोवशों के संरक्षण,संवर्धन एवं उनकी सुरक्षाओं के लिए विशेष ध्यान रखते हुए,अनेकों प्रयास प्रदेश स्तर पर वृहद रूप से किए जा रहे है।फिर भी राजधानी लखनऊ के सबसे करीबी सीतापुर जिले में गोवशों की बेकद्री किसी से भी छुपी हुई नहीं है।डेयरी मालिकों के द्वारा किए गए अतिक्रमण, फैलाई जा रही गंदगी बीमारियों से मोहल्लेवासी अत्यधिक परेशान है और इसके संबंध में उन्होंने अधिशासी अधिकारी नगर पालिका सीतापुर को भी सूचित किया है।किंतु किसी भी प्रकार की कोई भी कार्यवाही नगर पालिका सीतापुर के द्वारा नहीं की गई है,उक्त प्रकरण को लेकर स्वयं वार्ड के सभासद आयुष दीक्षित के द्वारा भी अधिशासी अधिकारी नगर पालिका सीतापुर व अन्य संबंधित अधिकारियों को इसकी सूचना अनेको बार दी गई किंतु प्रशासन की ओर से कोई भी कार्यवाही अभी तक नहीं की गई है।

Related Articles

Back to top button
Close