आगरा

चैकिंग के दौरान रेलवे पुलिस ने दवोचा एक गांजा तस्कर

add 22
add 21
add 20
add 2
add 1
add 14
add 13
add 12
add 15

 

आगरा-प्रभारी पुलिस अधीक्षक रेलवे आशीष तिवारी व वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त आर.पी.एफ प्रकाश कुमार पंडा के दिशा निर्देशन में ट्रेनों के माध्यम से हो रही मादक पदार्थो की तस्करी को रोकने के लिये जीआरपी व आरपीएफ द्वारा संयुक्त चैकिंग अभियान चलाया जा रहा था। लेकिन पिछले कुछ महीनों में ट्रेनों के माध्यम से गांजे की तस्करी के मामले बढ़ गए हैं। लगातार जीआरपी आगरा गांजा तस्करों पर नकेल कसते हुए तस्करों को गिरफ्तार कर रही है लेकिन गांजा तस्करी का पूरा नेटवर्क टूट नही पा रहा है और न ही तस्करी का मुख्य आरोपी हत्थे चढ़ा है। बीती रात जीआरपी आगरा कैंट ने एक शातिर तस्कर को गिरफ्तार किया। जीआरपी आगरा कैंट ने तस्कर से करीब 25 किलो गांजा बरामद किया है जिसकी अनुमानित कीमत 2.50 लाख रुपये है। इस प्रकरण की जानकारी देते हुये क्षेत्राधिकारी हरिश्चंद्र ने प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि पकड़ा गया तस्कर कमर आलम खान जिला सिद्धार्थनगर का रहने वाला है जो बीतीरात तेलंगाना एक्सप्रेस से आया था जो आगरा कैंट उतरा था इसे यह गांजा ग्वालियर में विशाखापत्तनम से गांजा लेकर आया जो ग्वालियर में सूरज नाम के व्यक्ति को देना था। साथ ही बताया कि ये अभियुक्त आगरा कैंट स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंम्बर 4/5 से इसे गिरफ्तार किया गया है। गश्त पर मौजूद चेकिंग टीम ने इसे देखा तो यह भागने लगा। घेराबंदी कर इसे रोका और सामान की तलाशी ली गयी तो इसके पास से करीब 25 किलों गांजा बरामद हुआ। साथ ही कहा कि तस्कर कमर आलम के तार विशाखापट्टनम से जुड़े हुए है। पूछताछ में उसने खुद कबूला है कि वो विशाखापट्टनम से ही गांजा लाता है। वहीं रेलवे पुलिस के अनुसार गिरफ्तार अभियुक्त गांजे की सप्लाई का कार्य कोरियर के रूप मे करते हैं। इस काम के लिये सरगना द्वारा पांच हजार रुपये व यात्रा खर्चा दिया जाता हैं। सीओ हरिश्चंद का कहना है कि तस्कर कमर आलम का आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है और कानूनी कार्यवाही कर उसे जेल भेजा जा रहा है।

Related Articles

Back to top button
Close