आगरा

जिला क्षय रोग अधिकारी ने एड्स और कोविड से बचाव के दिए टिप्स

सीएचसी पर 93 लोगों की हुई एचआईवी और 48 कोविड की जांच

3000
r 1000
WhatsApp Image 2020-12-31 at 6.53.15 PM
1000

 

आगरा : जनपद में मंगलवार को विश्व एड्स दिवस मनाया गया। इसके तहत जनपद के खेरागढ़, अछनेरा, फतेहाबाद और आंवलखेड़ा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर जागरुकता कार्यक्रम किए गए। जनपद में UPSACS द्वारा अनुबंधित संस्था चेतना सेवा संस्थान कि कार्यक्रम प्रबंधक तृप्ति जैन और उनके संस्था के स्टाफ द्वारा लोगों को एचआईवी, एड्स के मरीजों से भेदभाव न करने के लिए काउंसलिंग की गई व एड्स से बचाव के उपाय बताए गए अछनेरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर और जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. यूबी सिंह ने फीता काटकर कार्यक्रम का उदघाटन किया। इस मौके पर डिप्टी डीटीओ डॉ. योगेश्वर दयाल, जिला पीपीएम समन्यवयक कमल सिंह और सीएचसी प्रभारी डॉ. जीतेंद्र लवानियां मौजूद रहे। विश्व एड्स दिवस के मौके पर चारों सीएचसी पर 336 लोगों की एचआईवी जांच और 278 लोगों की कोविड जांच की गई। खेरागढ़ पीएचसी पर 110 लोगों की एचआईवी और कोविड-19 की जांच भी की गई. इसमें से किसी को भी एचआईवी पॉजिटिव नहीं मिला। जबकि कोविड के सैंपल लेने के बाद उन्हें जांच के लिए भेजा गया है।अछनेरा सीएचसी पर 93 लोगों की एचआईवी जांच और 48 लोगों की कोविड जांच की गई। आंवलखेड़ा सीएचसी पर 48 लोगों की एचआईवी जांच की गई. फतेहाबाद सीएचसी पर 85 लोगों की एचआईवी जांच और 120 लोगों की कोविड जांच की गई। सभी सीएचसी पर स्वंय सेवी संस्थाओं द्वारा एचआईवी और कोविड-19 से बचाव के लिए स्टॉल लगाए गए थे। यहां पर लोगों को पंफलेट और अन्य सामग्री के माध्यम से एचआईवी और कोविड-19 से बचाव कैसे किया जाए, इसकी विस्तृत जानकारी दी गई। जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. यूबी सिंह ने बताया कि जनपद में अछनेरा, खेरागढ़, फतेहाबाद और आंवलखेड़ा सीएचसी पर एचआईवी/एड्स और कोविड-19 से बचाव और जागरुकता के लिए कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इसके लिए कैंप के दौरान पोस्टर, बैनर और फ्लेक्स के माध्यम से लोगों में एड्स से बचाव के लिए लोगों मे जागरूकता पैदा की गई । उन्होंने बताया कि इस मौके पर कोविड-19 से बचाव के लिए भी लोगों को जागरुक किया गया और उनकी जांच भी की गई।
इन वजहों से होता है एड्स
-अनसेफ सेक्स (बिना कनडोम के) करने से.
-संक्रमित खून चढ़ाने से.
-HIV पॉजिटिव महिला के बच्चे में.
-एक बार इस्तेमाल की जानी वाली सुई को दूसरी बार यूज करने से.
-इन्फेक्टेड ब्लेड यूज करने से।

Related Articles

Back to top button
Close