आगरा

आलू किसानों की समस्या को लेकर सत्ता व विपक्ष नेता आमने सामने

3000
r 1000
WhatsApp Image 2020-12-31 at 6.53.15 PM
1000

 

आगरा : ताजनगरी में आलू किसानों का मुद्दा गरमाया हुआ है। जिसे लेकर विपक्ष और सत्ता से जुड़े लोग अब आमने-सामने आ गए हैं और दोनों ही एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। दरअसल जिला प्रशासन आगरा की ओर से कोल्ड स्टोरेज में भंडारण किए गए आलू को निकालने के आदेश किए गए थे जिसको लेकर किसान त्राहिमाम त्राहिमाम कर रहा है। किसानों की समस्या पर विपक्ष और पक्ष आमने सामने आ गया है। जहां एक तरफ विपक्ष के नेता सैकड़ों किसानों के साथ में जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन कर रहे थे तो वहीं सत्ताधारी नेताओं ने विपक्ष पर किसानों को बरगलाने का आरोप लगाया है। सैकड़ों आलू किसानों के साथ में कांग्रेस के नेता भगवान सिंह कुशवाहा, ठाकुर सूरजपाल और डॉक्टर धर्मपाल सिंह ने जिला मुख्यालय पर जोरदार प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान विपक्ष नेताओं का कहना था कि जिला प्रशासन की ओर से कोल्ड स्टोरेज में भंडारण किए गए आलू निकालने के जो आदेश दिए गए हैं उससे आलू किसानों की कमर टूट गई है। प्रतिवर्ष 30 नवंबर तक कोल्ड स्टोरेज में आलू रखने का आदेश जारी किया जाता था मगर इस वर्ष जिला प्रशासन ने 30 नवंबर से पहले ही आलू निकालने के आदेश जारी कर दिए हैं। विपक्ष के नेताओं ने जिला प्रशासन की ओर से जिलाधिकारी आगरा प्रभु नारायण सिंह को ज्ञापन सौंपा और ज्ञापन के माध्यम से कोल्ड स्टोरेज में भंडारण किए गए आलू न निकालने की मांग की। इस दौरान विपक्ष के नेताओं का कहना था कि प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार किसानों के अहित में कार्य कर रही है। वहीं इस मौके पर जिला मुख्यालय में मौजूद एत्मादपुर विधानसभा के बीजेपी विधायक राम प्रताप सिंह चौहान का कहना था कि भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने जिलाधिकारी से वार्ता कर ली है और आलू किसानों को समय दे दिया गया है। बावजूद इसके विपक्ष के नेता आलू किसानों को बरगलाने का कार्य कर रहे हैं। साथ ही कहा कि प्रदेश में सपा कांग्रेस और बसपा की सरकार के दौरान जब किसानों के लिए डीएपी और बिजली की मांग के लिए आंदोलन किए जाते थे तो बीजेपी नेता लाठी खाते थे और सत्ता से जुड़े लोग राजनीति करते थे। कुछ यही हाल इस बार भी आलू किसानों के साथ में विपक्ष के नेता कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button
Close