एटा

गोपाल गौशाला मे जहरीला पदार्थ खाने से कई गायो की तड़प तड़प कर मौत

गौ रक्षकों मैं भारी आक्रोश प्रभावी कार्रवाई करने की तैयारी

liladhar pradhan 1000

 

एटा : जीटी रोड पर स्थित गोपाल गौशाला में गत दिवस प्रातः काल कई गायों ने जहरीला चारा खाने के कारण तड़प तड़प कर गौशाला प्रांगण में ही दम तोड़ दिया। प्राप्त विस्तृत विवरण के अनुसार गौशाला से नित्य प्रति गौशाला कर्मचारी गायों को चराने हेतु गौशाला से बाहर ले जाते हैं तथा देर शाम तक इनकी वापसी होती है बताया जाता है कि गौशाला के निकट ही एक फ्लोर मिल है जिसके बाहर दूषित जहरीला आटा बाहर फेंक दिया जाता है यहां भी गाय चरा करती थी घटना से 1 दिन पूर्व प्रतिदिन की भांति गाय बाहर चारा खा कर आई थी लेकिन उन्होंने किस स्थान पर जहरीला चारा खा लिया या दूषित आटा खा लिया जिससे रात्रि में ही गौशाला के अंदर तड़प तड़प कर गायो ने दम तोड़ दिया प्रातः काल गौशाला के कर्मचारियों ने जब गायों को मरा हुआ देखा तो इसकी सूचना जिला पशु चिकित्सा अधिकारी को दी गई।

इस संबंध में मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ एस पी सिंह ने बताया कि उन्होंने घटनास्थल पर पहुंचकर गायों के शवों का पोस्टमार्टम कराया तथा उनका बिसरा भी सुरक्षित रखा गया है जेसीबी मशीन से गड्ढे खुदवाकर गायों के शवों को दफना दिया गया। लेकिन इतनी बड़ी घटना पर ना तो कोई भी अधिकारी मौके पर पहुंचा और ना ही कोई भी जनप्रतिनिधि। घटना की सूचना मिलते ही गौ रक्षा विभाग एटा के पदाधिकारियों तथा कार्यकर्ताओं में आक्रोश व्याप्त हो गया तथा इस संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एटा को अवगत कराते हुए दोषियों के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई करने की मांग की गई घटना के संबंध में ब्रज प्रांत विश्व हिंदू परिषद गौ रक्षा विभाग के अध्यक्ष इंजीनियर एसके पांडे को भी अवगत कराया गया है उन्होंने एटा के पदाधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा है की घटना के संबंध में प्राथमिकी दर्ज कराएं तथा दोषियों के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई होनी चाहिए समाचार लेखन के समय तक गौ रक्षा विभाग के जिलाध्यक्ष विकास चौधरी तथा अन्य गौ सेवक तैयारियों में जुटे हुए थे।

घटना के संबंध में ब्रज प्रांत गौ रक्षा विभाग के अध्यक्ष इंजीनियर एसके पांडे ने एटा के प्रशासनिक अधिकारियों से दूरभाष पर संपर्क स्थापित कर प्रभावी कार्रवाई करने के लिए वार्ता करनी चाही तो अधिकांश अधिकारियों ने फोन उठाने की जहमत गवारा नहीं की उल्लेखनीय है कि गौ रक्षा उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रमुख बिंदुओं में से है जिसके लिए प्रदेश स्तर पर गौ रक्षा आयोग की भी स्थापना की गई है लेकिन एटा जनपद के प्रशासनिक अधिकारी इस संबंध में उदासीन प्रतीत होते हैं और गौ सेवकों से कभी बैठक आयोजित कर विचार-विमर्श भी नहीं करते ?

Related Articles

Back to top button
Close