आगरा

करौली के पुजारी की हत्या को लेकर आगरा के बजरंगियों में फूटा आक्रोश

राजस्थान के मुख्यमंत्री के पुतले पर जूते चप्पलों की बारिस कर फूंका पुतला

liladhar pradhan 1000

 

आगरा : राजस्थान के करौली जिले में एक पुजारी की मौत को लेकर आगरा जिले के विश्व हिन्दू परिषद (बजरंग दल) कैलाश प्रखंड अध्यक्ष करन गर्ग के नेतृत्व में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का पुतला फूंका गया। पुतले को लेकर कार्यकर्ता हिन्दू विरोधी मुख्यमंत्री को बर्खास्त करो -बर्खास्त करो, पुजारी जी के हत्यारों को फाँसी दो-फाँसी दो जैसे नारे लगाते हुए सेंट्रल पार्क चौराहे पर पहुँचे। इस दौरान चौराहे पर मुख्यमंत्री के पुतला पर कार्यकर्ताओ का आक्रोश जाहिर करते हुये जूते चप्पल की बरसात कर पुतले में आग लगा दी। इस दौरान विश्व हिंदू परिषद ने गहलोत सरकार पर सवाल उठाते हुये कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री ने राज्य की जनता से वादा किया था। कि राजस्थान अपराध मुक्त होगा। क्या यही अपराध मुक्त प्रदेश हैं ? वहीं विश्व हिंदू परिषद के कैलाश प्रखंड अध्यक्ष करन गर्ग ने कहा कि राजस्थान में आज कोई सुरक्षित नहीं है। उन्होंने कहा कि यहां न महिलाएं सुरक्षित हैं और न ही बच्चे, यहां पुजारी भी सुरक्षित नहीं हैं। बता दें कि करौली में एक मंदिर के पुजारी को जिंदा जलाने की कोशिश की गई थी। बाद में इलाज के दौरान पुजारी की मौत हो गई। पुलिस ने मुख्य आरोपी कैलाश मीणा को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन इस मामले पर राजनीति शुरू हो गई है। करन गर्ग ने कहा कि पूर्व में राजस्थान मुख्यमंत्री ने भी इस घटना की निंदा की। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, ’सपोटरा, करौली में बाबूलाल वैष्णव जी की हत्या अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है, सभ्य समाज में ऐसे कृत्य का कोई स्थान नहीं है। प्रदेश सरकार इस दुखद समय में शोकाकुल परिजनों के साथ है। घटना के प्रमुख आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और कार्रवाई जारी है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।’ बता दें कि फिलहाल पुलिस घटना के अन्य आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है। इस मामले में पुलिस के मुताबिक दोनों पक्षों के बीच मंदिर की जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। पुतला दहन के दौरान प्रान्त उपाध्यक्ष सुनील पाराशर, महानगर कार्याध्यक्ष विनोद माहोर, करन गर्ग, अनुज पाठक, प्रदीप शर्मा, प्रिंस मिश्रा, शिवम दुवे, सोनू दीक्षित, आशमा, सारांश श्रीवास्तव, अमन राजपूत, नवीन पचौरी, जिनेंद्र कुशवाह सहित कई हिंदूवादी नेता मौजूद रहे।

Related Articles

Back to top button
Close