मथुरा

निजीकरण का विरोध मथुरा में भी जारी बिजली कर्मियों का आंदोलन

धरने पर बैठे रहे कर्मचारी, हर किसी को बिजली कनेक्शन कटिंग का डर समाया

add 22
add 21
add 20
add 2
add 1
add 14
add 13
add 12
add 15

मिशन इंडिया न्यूज़ संवाददाता-  तोरन सिंह

मथुरा। उत्तर प्रदेश में बिजली का निजीकरण किए जाने के विरोध में चल रहे प्रदेश व्यापी आंदोलन के तहत मथुरा में भी इसका असर दिखने लगा है। विद्युत कर्मचारी नेता विद्युत सप्लाई में अवरोध डालने लगे हैं। आम जनता परेशानी में आ गई है। साथ ही लोग भी सशंकित हैं कि न जाने कब उनकी बिजली काट दी जाए जनपद के विद्युत अधिकारी कर्मचारियों का दूसरे दिन भी कैंट स्थित बिजलीघर पर धरना व कार्य बहिष्कार करते रहे। कार्य बहिष्कार के चलते मंगलवार को उपभोक्ताओं के कार्य बिजली अधिकारी व कर्मचारी नहीं कर सके। धरने पर बैठे विद्युत कर्मियों का कहना है कि जब तक सरकार हमें पूरी तरह निजीकरण न करने को लेकर आश्वस्त नहीं करेगी तब तक हम धरना प्रदर्शन समाप्त नहीं करेंगे। कार्य बहिष्कार के चलते जनपद सहित प्रदेश भर में करोड़ों रुपए राजस्व की प्रतिदिन हानि हो रही है इसके अलावा विद्युत उपभोक्ताओं को बिल जमा करने में असुविधा, नए कनेक्शन, नये मीटर, फॉल्ट सही नहीं होने से जनता परेशान होने लगी है। कार्य बहिष्कार आंदोलन में विनोद कुमार गंगवार, अजय गर्ग, प्रदीप खत्री सचिन शर्मा, वीरेन्द्र सिंह, एन.पी. सिंह, अशुल कुमार शर्मा, सचिन द्विवेदी, सुखबीर सिंह, समीक्षा गुप्ता, विजय कुमार, कृष्णवीर, गजेन्द्र सिंह, सुनील कुमार सिंह, सतेन्द्र कुमार मौर्य, राकेश कुमार यादव, अजीत सिंह, अशोक यादव, उदित कुमार, एस.एन.अरोड़ा, मुकुल सक्सैना, राकेश निराला, रीतेश श्रीवास्तव व मनीष अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

Related Articles

Back to top button
Close