आगरा

कोविड पॉजिटिव होने के बाद भी सता रही मरीजों की चिंता : डॉ. प्रशांत गुप्ता

liladhar pradhan 1000

 

आगरा : सरोजिनी नायडू मेडिकल कॉलेज के डॉ. प्रशांत गुप्ता गुप्ता सितम्बर के पहले सप्ताह में कोविड-19 की चपेट में आ गये। वह कोविड अस्पताल में मरीजों का इलाज कर रहे थे। इस दौरान उन्हें पता ही नहीं चला कि वह कब पॉजिटिव हो गये जब उन्हें कुछ लक्षण महसूस हुए तो उन्होंने जांच कराई। जांच पॉजिटिव आने पर उन्होंने अपने परिवार के अन्य सदस्यों की भी जांच कराई, उनमें भी कोविड-19 का संक्रमण मिला। इसके बाद वह होम आइसोलेट हो गये। डॉ. प्रशांत ने बताया कि जब उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो सबसे पहले उन्हें अपने काम की चिंता हुई, क्योंकि वह इस महामारी के दौरान एक महत्वपूर्ण भूमिका में थे और कोविड-19 को मरीजों का इलाज कर रहे थे। इसके बाद उनकी टीम के सदस्यों डॉ. आशीष गौतम, डॉ. अखिल प्रताप सिंह और डॉ. ब्रजेश शर्मा ने हौसला बढ़ाया और कहा कि वह काम को प्रभावित नहीं होने देंगे। तब जाकर डॉ. प्रशांत को चैन आया और वह होम आइसोलेट हुए। उन्होंने बताया कि होम आइसोलेशन में रहने के दौरान भी अपने साथियों से फोन के माध्यम से कनेक्ट रहे और काम प्रभावित नहीं हुआ। डॉ. प्रशांत ने बताया कि एक चिकित्सक होने के साथ ही कोरोना मरीजों के इलाज में जुटे होने के बाद भी जब मुझे और मेरे परिवार के सदस्यों को इसका संक्रमण हुआ तो मेरे मन में भी भय और डर सताने लगा। उन्होने कहा कि जब परिवार में आपकी बुजुर्ग मां, पत्नी और आपकी बेटी सहित आप भी कोविड धनात्मक हों और आपसे आपका ड्राइवर भी चपेट में आ गया हो तो शायद मन में चिंता अपने आप ही आ जाती है। उन्होंने कहा कि हमने फिर भी हार नहीं मानी और मानसिक तनाव को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। डॉ. प्रशांत ने बताया कि जब लोगों को पता चला कि हमारा परिवार कोविड पाजिटिव हो गया है, तो इस पर लोगों ने फोनकर काफी सहारा दिया। उन्होंने फोन के माध्यम से ही लगातार मेरी तबियत का हाल जाना। उन्होंने बताया कि चाहे ऑफिस के लोग हों या रिश्तेदार हों सभी ने काफी सहारा दिया। उन्होंने बताया कि हमारे लिये घर पर रिश्तेदारों के यहां से ही प्रतिदिन खाना आता था। डॉ. प्रशांत ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीम की ओर से लगातार अपनी ड्यूटी पूरी की गई। मेरे चिकित्सक होने के बावजूद वह मुझसे फोनकर हर रोज मेरी तबियत का हाल जानते थे और जरूरी निर्देश भी देते थे। सैंपल घर से ही समय से स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा ही कराया गया। उन्होंने बताया कि इलाज मेरे साथी डॉक्टर प्रभात अग्रवाल और डॉ. आशीष अग्रवाल ने किया। उन्होंने बताया कि जब हमारी रिपोर्ट निगेटिव आई तो हमें काफी खुशी हुई। पूरे 21 दिन के होम आइसोलेशन के बाद डॉ. प्रशांत ने दोबारा से ड्यू़टी संभाल ली है और दोबारा से अपना चिकित्सक धर्म निभा रहे हैं।

Related Articles

Back to top button
Close