आगरा

सदर की राणा प्रताप कॉलोनी में हुआ सुंदरकांड व रामलीला का आयोजन

रामबरात के शुभअबसर पर रामनिवास तोमर सहित पत्नी बनी राम सीता

liladhar pradhan 1000

 

आगरा-दुनियां भर में चल रहे कोरोना के कहर ने कई धार्मिक कार्यो पर प्रतिबंध लगा दिया। जिसके चलते उत्तर भारत की विख्यात ऐतिहासिक आगरा की रामबरात पर भी रोक लगा दी। हर बर्ष पितृपक्ष की एकादशी को भगवान श्रीराम की बारात शोभायात्रा शहर में निकाली जाती थी। इस दौरान सजने बाली जनकपुरी सहित विभिन्न मार्गो को दुल्हन की तरह सजाया जाता था। साथ ही शहर के कई मार्गो पर विकास कार्य भी कराया जाता था। इस शोभायात्रा से शहर में तकरीबन 90 करोड़ का कारोबार भी होता था। इस बार ना तो शहर वासियों को भगवान श्री राम के दर्शन हुये और ना ही शहर का विकास हुआ। इस कोरोना के कहर ने इस बार शहर के विकास व कारोबार पर पानी फेर दिया। हालांकि सदर बाजार क्षेत्र की राणा प्रताप कॉलोनी में रामनिवास तोमर के निज निवास पर रामबरात के पावन मौके पर सुंदरकांड का पाठ कर भगवान श्रीराम के स्वरूप को देखने के लिये एक आयोजन किया गया। जिसमें कॉलोनी निवासी रामनिवास तोमर व उनकी धर्मपत्नी संगीता तोमर ने भगवान श्रीराम व सीता माता का स्वरूप लिया इस दौरान कॉल%Eनी सभी लोगों ने सुंदर कांड में भाग लेकर इनके स्वरूपों की पूजा कर आर्शीबाद लिया।

Related Articles

Back to top button
Close