आगरा

विवि की अंतिम वर्ष की परीक्षायें शुरू, हुई 366 केंद्रों पर परीक्षा

कोरोना प्रोटोकाल के दौरान मिला परीक्षर्थियों को परीक्षा केंद्रों में प्रवेश

liladhar pradhan 1000

 

आगरा-डा. भीमराव आंबेडकर विवि की अंतिम वर्ष की परीक्षाएं शुक्रवार से शुरू हो गयीं। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए 37 हज़ार परीक्षार्थियों ने पहले दिन 366 केंद्रों पर परीक्षा दी। शासन के निर्देशों के बाद विवि द्वारा अंतिम वर्ष की परीक्षाएं शुरू की गईं हैं। तीन पालियों में परीक्षा हुई। परीक्षा केंद्रों पर कोरोना प्रोटोकाल का पालन किया गया। हर परीक्षार्थी की थर्मल स्क्रीनिंग की गई उसके बाद ही परीक्षा केंद्र में उन्हें प्रवेश दिया गया। परीक्षा नियंत्रक डॉ राजीव कुमार ने बताया कि थर्मल स्क्रीनिंग में अगर किसी परीक्षार्थी का तापमान मानक से अधिक मिलता है या अन्य लक्षण पाए जाते हैं, तो उसे परीक्षा नहीं देने दी जाएगी। ऐसे सभी विद्यार्थियों की विशेष परीक्षा अक्तूबर में कराई जाएगी। कोरोना से बचाव के लिए हर पाली के बाद हर कक्ष, फर्नीचर को सैनिटाइज किया गया। केंद्रों के मुख्य गेट पर साबुन, सैनिटाइजर की व्यवस्था भी की गई है। पहले दिन कुलपति प्रोफेसर अशोक मित्तल ने आगरा कॉलेजका निरीक्षण किया। यह सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त मिले। उनके साथ उड़नदस्ता समन्वयक प्रोफेसर लवकुश मिश्रा, डॉ रेखा पतसरिया आदि मौजूद रहे।

थर्मल स्क्रीनिंग में अगर किसी परीक्षार्थी का तापमान मानक से अधिक मिलता है या अन्य लक्षण पाए जाते हैं, तो उसे परीक्षा नहीं देने दी जाएगी। ऐसे सभी विद्यार्थियों की विशेष परीक्षा अक्तूबर में कराई जाएगी। कोरोना से बचाव के लिए हर पाली के बाद हर कक्ष, फर्नीचर को सैनिटाइज किया जाएगा। केंद्रों के मुख्य गेट पर साबुन, सैनिटाइजर की व्यवस्था की जा रही है। मास्क अनिवार्य होगा। एक कमरे में 50 से अधिक परीक्षार्थी नहीं बैठाए जाएंगे। सैनिटाइजेशन व अन्य व्यवस्थाओं के लिए विवि द्वारा हर केंद्र को 10 हजार रुपये दिए जा रहे हैं। परीक्षा नियंत्रक डा. राजीव कुमार ने बताया कि आगरा में आठ और अलीगढ़ में तीन उड़नदस्ते बनाए गए हैं। इसी तरह अन्य जिलों में भी उड़नदस्ते परीक्षार्थियों की संख्या के आधार पर बनाए जाएंगे। आंबेडकर विवि की आवासीय इकाई में 25 सितंबर से अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं प्रस्तावित हैं। इसकी तैयारियां शुरु कर दी गई हैं। इससे पहले अंतिम सेमेस्टर की विद्यार्थी अपनी शंकाओं के समाधान के लिए संस्थान में शिक्षकों से संपर्क कर सकते हैं। कुलपति प्रो. अशोक मित्तल ने विद्यार्थियों से कहा है कि अगर वे संस्थान आना चाहते हैं तो एक योजना के तहत ही उन्हें एंट्री मिलेगी। निश्चित संख्या में ही विद्यार्थी संस्थान आ पाएंगे। अक्तूबर के पहले सप्ताह से नया सत्र शुरु करने की योजना है, इसके लिए विवि प्रशासन ने कार्ययोजना बनाना शुरु कर दिया है। समय की कमी के कारण पाठ्यक्रम में भी कटौती की जाएगी। विद्या परिषद और बोर्ड ऑफ स्टडीज में प्रस्ताव रखे जाएंगे। सभी इकाइयों में से एक निश्चित अनुपात में पाठ्यक्रम कम किया जाएगा, जिससे कि विद्यार्थी को विषय की संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो सके।

Related Articles

Back to top button
Close