उत्तर प्रदेशमथुरा

बच्चों को चिन्हित कर कुपोषण से दिलाएंगे मुक्ति

कुपोषित बच्चों के परिवारों को नि:शुल्क गाय / 900 रुपये प्रति माह आहार भत्ता

add 22
add 21
add 20
add 2
add 1
add 14
add 13
add 12
add 15

मिशन इंडिया न्यूज़ संवाददाता-पवन शर्मा

मथुरा-जनपद को कुपोषण मुक्त करने के लिए आज सोमवार से पोषण माह की शुरुआत की गई। यह समूचा सितंबर माह पोषण माह के रूप में मनाया जाएगा। जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने इस अभियान को विधिवत रूप से जूम एप के माध्यम से जनपद की चुनिंदा महिला आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं लाभार्थियों से बातचीत कर शुरू किया। जिलाधिकारी मिश्र ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे ऐसे परिवारों को चिन्हित करें, जिनके बच्चे कुपोषित हैं और वह आर्थिक रूप से संपन्न भी नहीं हैं। उन्हें गाय या बछिया निःशुल्क प्रदान की जाएगी। साथ ही 900 रुपए प्रतिमाह गाय की खुराक के लिए भी प्रदान किए जाएंगे। वह परिवार अपनी इच्छा से ब्रज की किसी भी गौशाला में जाकर अच्छी से अच्छी गाय ले सकता है। समूचे ब्रज में सैकड़ों को गौशाला हैं, जिनमें एक से एक अच्छी गायें पल रही हैं। जिलाधिकारी ने बताया कि गाय प्रदान करने की घोषणा तीन दिन पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पोषण माह के शुभारंभ मौके पर की थी।

इस अभियान की शुरुआत अपने आवास से जूम एप से की जबकि आंगनवाड़ी की चुनिंदा कार्यकर्ता, सुपरवाइजर एवं लाभार्थी परिवारों से महिलाएं व पुरुष मथुरा के राजीव भवन और जिला कार्यक्रम अधिकारी (आंगनवाड़ी) कार्यालय में बिठाए गए थे। ज्यादातर ने अपने मोबाइल पर जिलाधिकारी का संबोधन सुना। इस अवसर पर कार्यवाहक जिला कार्यक्रम अधिकारी (आंगनवाड़ी) और जिला विकास अधिकारी रवि किशोर त्रिवेदी ने पोषण माह में होने वाली गतिविधियों की रूपरेखा प्रस्तुत की। जिलाधिकारी सर्वज्ञ राम मिश्रा ने कहा कि राज्य पोषण मिशन से जुड़ी आंगनवाड़ी परियोजना की समस्त कार्यकर्ताओं को पुष्टाहार का वितरण सही रूप से करना है। हर पात्र को हर हालत में समय से पुष्टाहार मिलना चाहिए। उनके द्वारा प्रदान किए गए पौष्टिक आहार से बच्चे और गर्भवती महिलाएं स्वस्थ रहेंगी।
जो परिवार संपन्न नहीं है और उन पर आय का साधन नहीं है, उन्हें गाय देने की घोषणा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूर्व में कर चुके हैं।

अब ऐसे परिवारों को तैयार करना है, जो गौशाला में जाकर गाय ले लें। पोषण माह की शुरुआत के दौरान जिलाधिकारी ने शोरावाला कोठी निवासी राधा से उसके बच्चे के बारे में पूछा। राधा ने बताया कि मेरा बेटा अति कुपोषित था, जिसका आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा पहुंचाए गए पुष्टाहार से काफी वजन बढ़ा और स्वस्थ हुआ। संजय नगर की श्रीमती तान्या ने भी अपने बच्चे को मिल रहे पुष्टाहार से मिलने वाले लाभ गिनाए। वृंदावन के गौरव की पत्नी ने भी अपने बच्चे के बारे में बताया कि पुष्टाहार से वह किस तरह स्वस्थ हुआ। विदित हो कि पोषण माह की शुरुआत 1 सितंबर से होनी थी, लेकिन पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन के कारण यह 7 सितंबर से शुरू हो सकी। कार्यक्रम में आंगनवाड़ी सुपरवाइजर श्रीमती वंदना के अलावा सुपरवाइजर शशि तिवारी, आंगनवाड़ी कार्यकर्ती विनीता, ललिता समेत अनेक मौजूद थीं।

Related Articles

Back to top button
Close