कासगंज

तीर्थ नगरी में जला अहंकारी रावण का पुतला -असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाते है दशहरा पर्व

1776b2aa-f544-44e5-bc5e-b7b511d78d7b

मिशन इंडिया न्यूज़ संबाददाता – विक्रम पाण्डेय

कासगंज- तीर्थ नगरी सोरो में विजय दशमी दशहरा पर्व बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।आज के ही दिन राम लंका पर विजय हासिल कर अयोध्या वापिस लौटे थे। जनपद के कासगंज के  सोरों मे सायं के समय धू-धू कर जलया गया रावण का पुतला।उससे पहले  सती शिलोचना  की लीला , कुम्भकरण वध का भी रामलीला में मंचन गया।बताया जाता है कि कुम्भकरण ने रावण को काफी सूझाया बुझाया था कि श्रीराम से लड़ाई नहीं लड़े और श्रीराम के चरणो में समर्पित हो जाये।लेकिन अहंकारी रावण ने किसी की कोई भी बात नहीं सुनी और अपने सारे कुल को राम के हाथों मरवा दिया। जिससे उसके सारे कुल का तरण हो गया।बताया जाता है कि रावण बहुत ही विद्वान पंडित था उसे पहले से पता था कि वह श्रीराम भगवान विष्नू के अवतार है जिससे इनके हाथो से मरने से उसको मुक्ति मिल जायेगी।इसलिए उसने इतना घिनौना कृत किया कि सीता माता को चुरा कर ले गया।असत्य पर सत्य और अहंकार पर दया की जीत भी मानी जाती है।जिस व्यक्ति ने अहंकार को त्याग दिया उसका मोक्ष निश्चित है। श्री राम की विजय की शोभा का शुभारंभ कोतवाली प्रभारी रिपुदमन सिंह ने मेला परिसर के गेट का फीता काटकर शोभा यात्रा का शुभारंभ किया।शोभा यात्रा मे दर्जनो की संख्या मे झाकीयो भक्तो के अकषर्ण का केन्द्र रही । पुलिस प्रशासन सुरक्षा की दृृष्टि से पूरी तरह मुस्तैद रहा। इस अवसर पर रामलीला कमेटी अध्यक्ष गिरिराज किशोर पाराशर, महामंत्री रिंकू पचैरी, दुर्गाशंकर, रामलीला कमेटी निर्देशक ललित मोहन तिवारी, योगंेश सोनी,संजय उपाध्याय, बृृजेश उपाध्याय, नीरज उपाध्याय,आसतोष,नन्द किशोर सभासद ,अतुल तिवारी, कपिल मित्तल, संचालक महंत किशन पचैरी सर्व मानव कल्याण सेवा संस्थान के बिक्रम पाण्डेय, राजीव तिवारी, शिवम भारद्धाज,पारस गुप्ता ,अकित माथुर   सहित सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु भक्तजन मौजूद रहे।