अन्य खबरें

कांवड़ मेला चरम पर, कावंडियों का उमड़ा जनसैलाब

WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.59.02 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 4.31.25 PM
9d1de659-68b7-46c8-a1b3-31e7b19e3e01
WhatsApp Image 2019-08-15 at 3.53.48 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.30.43 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 4.12.03 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.30.53 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.59.01 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.30.55 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 2.26.03 PM

मिशन इंडिया न्यूज़ संवाददाता

हरिद्वार -हरिद्वार में चल रही कांवड मेला अपने परम वैभव काल में पहुंच गया है और श्रावण मास के इस पहले पक्ष में चल रही कांवड़ यात्रा में शिवभक्तों को सैलाब यहां उमड़ रहा है। चारों और ‘बम बम भोले’ ‘हर हर महादेव’ का जयघोष सुनाई दे रहा है। केसरियां रंग में डूबी तीर्थ नगरी हरिद्वार में आस्था का महासंगम दिखाई पड़ रहा है। कांवड़ मेले के चरम काल के चलते यहां हाईवे पर केवल कांवडियों का ही कब्जा बना हुआ है। ‘डाक कांवड़’ के चलते मोटर साईकिलों चारपहियां वाहनों और वड़े वाहनों में डीजे के शौर ने केवल और केवल कांवड़ियों ने ही सबका घ्यान अपनी और आकर्षित किया हुआ है। हरिद्वार के सभी घाटों बाजारों एंव शिव मंदिरों में भगवाधारी शिवभक्तों की रैला दिखाई पड़ता है।

उत्तराखंड सरकार के पर्यटन मंत्री सतपाल महारज के निर्देश पर धर्म नगरी हरिद्वार हरकी पौड़ी पर कावड़ लेकर आए शिव भक्तो का हवाई विमान द्वारा फूल वर्षा के माध्यम से स्वागत किया गया। हरकी पौड़ी पर गंगा जल भरने पहुंचे शिव भक्तो पर फूलों की वर्षा की गयी। इस मौके पर पूरे हरकी पौड़ी मेला क्षेत्र में बम बम भोले के जयकारे भी लगाए गए। उत्तराखंड सरकार की इस पहल को आए हुए शिव भक्तो ने इस पहल का स्वागत और धन्यवाद दिया। डाक कांवड़ वाहनों का रेला धर्मनगरी में लगातार पहुंच रहा है। हाईवे पर छोटे बड़े वाहनों पर सवार होकर शिवभक्त कांवड़िएं दिन भर धर्मनगरी में पहुंचते रहे। पुलिस प्रशासन लगातार हाईवे व नगर के विभिन्न मार्गो पर व्यवस्था को बनाने में जुटा हुआ है। पैदल कांवड़ियों के अंतिम दौर में अपने गंतव्यों की और लौटने का क्रम जारी है।

बरसात के कारण जगह जगह जलभराव, गारे कीचड़ से शिवभक्त कांवड़ियों को यात्रा में कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। शंकराचार्य चौक, प्रेमनगर चौक, सिंहद्वार चौक, चण्डी चौक मार्ग पर गढ्ढों पर जलभराव के कारण ‘डाक कांवड़ियों’ के वाहनों पर ब्रेक लगने के कारण जाम की स्थिति भी पनप भी रही है। लेकिन पुलिसकर्मियों की सूझबूझ के कारण डाक कांवड़ वाहनों को नियत स्थान पर भेजने का क्रम शनिवार को दिनभर जारी रहा। राज्य सरकार के द्वारा कांवड़ियों पर फूलों की वर्षा करने की घोषणा तो की गयी। लेकिन सड़क के गढ्ढों ठीक नहीं किया गया। जिससे कई बार तेज गति से आने वाले कांवड़िएं दुघर्टना का शिकार भी हो रहे हैं। लगातार डाक कांवड़ियों के वाहन पहुंचने के कारण पुलिस प्रशासन के भी हाथ पांव फूले हुए हैं। अधिकांश पार्किंग स्थल भी वाहनों से पटे हुए हैं।

छोटे बड़े वाहन पार्किंग स्थलों में लगाए जा रहे हैं। कई बार तो डाक कावड़िएं अपने वाहनों को खड़े करने के चक्कर में पार्किंग में तैनात कर्मचारियों से पैसों को लेकर भीड़ जाते हैं। पुलिस प्रशासन द्वारा डाक कांवड़ियों को व्यवस्था प्रदान करने के लिए रूट का भी डायवर्जन करना पड़ रहा है। तेज गति से डाक कावड़िएं अपने वाहनों पर सवार होकर धर्मनगरी में पहुंच रहे हैं।हरकी पैड़ी सहित विभिन्न गंगा घाट डाक कावड़ियों से पटे हुए हैं। केसरिया रंग का कब्जा पूरी धर्मनगरी पर हो गया है। हरकी पैड़ी सहित सभी घाट बम बम भोले के जयकारों से गूंज रहे हैं। दक्षेश्वर महादेव, बिल्केश्वर महादेव मंदिर सहित शहर के सभी शिवालयों तथा चण्डी देवी, मंशा देवी, दक्षिण काली मंदिर सहित सभी प्रमुख मंदिरों में पूजा अर्चना के लिए कावड़ियों की भीड़ लगी हुई है।

अंतिम दौर में पूरा वातावरण शिवमय हो चला है। विभिन्न शिवालयों में शिवभक्त कांवड़ियों द्वारा जलाभिषेक भी किया जा रहा है। ‘डाक कावंड़िए’ अधिकांश चैपहिया वाहनों पर सवार होकर डीजे की धुन पर नाचते गाते हरि की नगरी में पहुंच रहे हैं। पुलिस प्रशासन भी मुस्तैदी के साथ कांवड़ मेले को सकुशल संपन्न कराने में जुटा हुआ है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनमेजय खण्डूरी खुद ही समस्त मेला क्षेत्र का जायजा भी ले रहे हैं। अधीनस्थों को मेले की डयूटी में किसी भी प्रकार की लापरवाही ना बरतने के भी निर्देश दिए जा रहे हैं।