अन्य खबरें

महालोकतंत्र के लिए हुआ न्यायधर्मसभा पार्टी का गठन

WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.59.02 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 4.31.25 PM
9d1de659-68b7-46c8-a1b3-31e7b19e3e01
WhatsApp Image 2019-08-15 at 3.53.48 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.30.43 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 4.12.03 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.30.53 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.59.01 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 8.30.55 PM
WhatsApp Image 2019-08-15 at 2.26.03 PM

मिशन इंडिया न्यूज़ संवाददाता-  मुकेश चौहान

हरिद्वार – जगजीतपुर कनखल में आज 24 जून को न्यायधर्मसभा के मुख्यालय में राजनैतिक पार्टी के गठन हेतु सभा का आयोजन किया गया ।बताते चलें कि न्यायधर्मसभा एक सामाजिक संस्था है जो पिछले तीस वर्षों से न्याय की स्थापना के लिए कार्य कर रही है । न्यायधर्मसभा के कुल 111 न्यायप्रस्ताव हैं जो कि देश विदेश की समस्त समस्यायों के समाधान हैं । सन 2011 से न्यायधर्मसभा ने केंद्र सरकार व राज्य सरकारों प्रस्तावों को लागू करने के लिए भेजे गये । भाजपा सरकार ने कई प्रस्तावों को क्रियान्वित भी किया । न्यायधर्मसभा द्वारा ये प्रस्ताव देश की सभी राजनैतिक दलों को भी भेजे हुए हैं । राष्ट्र के भले के लिए 111 न्यायप्रस्तावों का लागू होना बहुत ही आवश्यक है । इसी उद्देश्य से  पार्टी का गठन किया गया । 111 न्यायप्रस्तावों के प्रतिपादक एंव संस्थापक  अरविंद अंकुर  ने कहा न्यायधर्मसभा पार्टी का मुख्य उद्देश्य केवल प्रस्ताव नंबर 53 Self Governance System को लागू करना है । यह प्रस्ताव स्वशासन प्रणाली है ।लोकमत द्वारा विधायिका, मंत्रिका न्यायिका के गठन एवं इनके द्वारा निर्मित प्रस्तावित राष्ट्रीय नियमों,नीतियों,निर्णयों को लोकमत द्वारा ही पारित या खारिज करने की चुनावी प्रक्रिया होगी । देश की पावर किसी नेता या दल के हाथ मे न होकर जनता के हाथों में होगी । सही मायने में तभी लोकतंत्र सिद्ध होगा । अंकुर जी ने कहा स्वशासन प्रणाली लागू होने पर जनता अन्य 110 प्रस्तावों को स्वत् लागू कर लेगी क्योंकि सभी प्रस्ताव जनता के हित मे है । अभी तक जनता को शिक्षा,रोजगार,सुविधा और संरक्षण का अधिकार ही सुलभ नहीं है । देश मे प्रति परिवार रोजगार का बजट सुनिश्चित होना चाहिए ।इस अवसर पर देश के कई राज्यो से आये सदस्यों ने भाग लिया । न्यायधर्मसभा में तीन प्रकार के सदस्य होंगे । जिसकी जैसी पात्रता होगी उसी प्रकार का सदस्य बनने का अवसर प्राप्त होगा । इस पार्ट में कोई भी साधारण सदस्य हो सकता है । सक्रिय सदस्य बनने के लिए भावनात्मक क्षमता की परीक्षा तथा नेतृत्व के लिए चेतनात्मक क्षमता की परीक्षा पास करना अनिवार्य होगा । स्वशासन प्रणाली का प्रस्ताव पार्टी में भी लागू है जिसके तहत आज पार्टी के पदाधिकारियों का चयन क्षमता और कार्यकर्ताओं की सहमति के आधार पर किया गया । राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी चन्द्रसेन शर्मा जी ने कहा कि न्यायधर्मसभा के कार्यकर्ता घर घर 111 न्यायप्रस्तावों को लिखितरूप में घर घर तक पहुचाने का कार्य करेंगे । जनता इन प्रस्तावों को जानकर स्वम् सरकार से लागू करने के लिये माँग करेगी ।न्यायधर्मसभा राजनैतिक पार्टी का उद्देश्य चुनाव जीतना या सत्ता पाना नहीं बल्कि न्यायस्थापना करना है ।अवसर पर मुख्यरूप से संजय श्रीवास्तव मधुरमोहन मिश्रा, शीला,संदेश ,कुलदीप,नरेंद्र,सुशील राणा,गगन,विजय,मृत्युंजय सिंह,सनत,अजीत नीरज उपाध्याय आदि उपस्थित थे ।