आगरा

शादी को लेकर सतुंष्ट ना होने पर रच दी झूठी रेप की कहानी

mission india news-requarment

मिशन इंडिया न्यूज़ क्राइम संबाददाता- जितेंद्र सिंह  

आगरा – थाना अछनेरा क्षेत्र के ग्राम कीठम  निवासी व्यक्ति ने अपनी पुत्री के साथ  गाँव के ही कन्हैया पुत्र बदनसिंह व योगेश उर्फ  योगल पुत्र रनवीर निवासी ग्राम पिपरौठ थाना फरह जिला  मथुरा द्वारा दिनांक 01.01.2019 को सुबह करीब 7.30 बजे शौच को जाते समय मंदिर से अपहरण कर सरसों के खेत में ले जाकर  बारी-बारी से बलात्कार करने एवं साक्ष्य मिटाने के उद्देश्य से पीड़िता के कपड़े व शरीर जलाने  के सम्बन्ध में थाना अछनेरा आगरा पर बनाम कन्हैया आदि पंजीकृत किया गया,जिसकी विवेचना प्रभारी  निरीक्षक अछनेरा जनपद आगरा द्वारा सम्पादित की गयी।इस घटना के अनावरण हेतु प्रभारी निरीक्षक  अछनेरा द्वारा पीडिता का मेडिकल कराते हुऐ माननीय न्यायालय में बयान अंकित कराये। नामजद अभियुक्त कन्हैया उपरोक्त से  पूछताछ की गयी जिसने उसने घटना से इन्कार किया और अपने कथन में सुबह 7.00 बजे स्कूली बच्चों को विद्यालय हेतु ले जाने  तथा अपने साथी के साथ आगरा जाने एवं अपनी पूरी दिनचर्या से अवगत कराया। तथा दूसरे नामजद अभियुक्त योगेश उर्फ योगल उपरोक्त  ने भी घटना से इन्कार किया तथा घटना के दिन अपनी उपस्थिति अपने गाँव में बताते हुऐ अपने बच्चे को दिखाने डॉक्टर के पास  रैपुरा जाट जाने की बात कही उपरोक्त दोनों नामजद व्यक्तियो के कथनो को भौतिक रूप से तश्दीक किया गया, तो दोनों की बातो में सत्यता  पायी गयी और घटना में संलिप्तता नही पायी गयी। पीड़िता से पुनः घटना के सम्बन्ध में गहनता से पूछताछ की गयी तो पीड़िता ने बताया कि उसकी शादी  तय हो गयी थी जिससे वह सन्तुष्ट नहीं थी यह बात उसने अपनी माता व पिता को भी पूर्व में बताई थी लेकिन किसी ने इसकी बात पर ध्यान नहीं  दिया। इस कारण दिनांक 01.01.2019 को सुबह 7.30 बजे खेतों में शौच करने गयी थी और गुस्से में मंदिर से सरसों के खेत में पहुची दिन भर सरसों के  खेत में ही बैठी रही और उसने गुस्से में रात्रि में माचिस की तीली से अपने कपडो को भी आग में जला दिया तथा अपने आपको खत्म करने के लिये अपना शरीर भी कई जगहों पर जला लिया गुस्सा शांत होने पर रात्रि में  करीब 2.30 बजे मंदिर में वापिस आ गयी और मंदिर में बने कमरे में छिप गयी ज्यादा ठण्ड लगने पर अपने पशुओं के बाड़ा में गयी जहाँ पर परिवार के सभी लोग सोये हुऐ थे अपना एक सूट ले आयी और उसे पहनकर मंदिर के कमरे छिपी रही। अगले दिन करीब 2.30 बजे  दोपहर कमरे से बाहर निकली तो उसकी छोटी बहिन ने उसे देख लिया और परिवारीजनों को सूचना दी तब उसके परिवारीजन उसे पशुओं के बाड़ा पर ले गये परिवार वालो ने ज्यादा पूछताछ की तो डर व भय के कारण उसने नामजद कन्हैय व योगेश उर्फ योगल उपरोक्त द्वारा ले जाने, बलात्कार करने व कपडे व शरीर को जलाने का झूठा आरोप लगा दिया। जिसके सम्बंध में  उसके पिता द्वारा थाना अछनेरा पर तहरीर देकर अभियोग पंजीकृत कराया गया था। पूछताछ पर पीड़िता ने घटनास्थल से मंदिर निर्वस्त्र आने की बात को गलत बताया इस बात की पुष्टि उसके परिवारीजनों ने भी की है। विवेचना के मध्य प्राप्त इलेक्ट्रोनिक व वैज्ञानिक साक्ष्य, मेडिकल रिपोर्ट एवं परिस्थितिजन्य साक्ष्य से घटना असत्य पायी गयी।