अन्य खबरें

डिजीटल मॉनीटरिंग टूल के माध्यम से योजनाएं होंगी सही रूप में क्रियान्वित-डीएम

 

एटा- मॉनीटरिंग इंटीग्रेटिड एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर “मिडास“ का जनपद में 22 नवम्बर को डीएम आई0पी0 पाण्डेय, सीडीओ उग्रसेन पाण्डेय, जॉइंट मजिस्ट्रेट महेन्द्र सिंह तंवर द्वारा विधिवत शुभारंभ किया गया। डीएम आई0पी0 पाण्डेय द्वारा आईटीआई सभागार में भव्य आयोजन का विधिवत मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण, दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारंभ किया गया। तदोपरान्त कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि मिडास सॉफ्टवेयर के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में योजनाओं के सही रूप में क्रियान्वयन होने में काफी सफलता मिलेगी। इसके अलावा डिजीटल मॉनीटरिंग टूल के माध्यम से विभिन्न प्रकार की पैंशन योजनाएं, आयुष्मान भारत योजना, सौभाग्य योजना, राजस्व विभाग आदि योजनाएं जहां सही रूप में क्रियान्वित होने से आमजन को बेहतर सुविधा मुहैया कराई जाएगी।डीएम आई0पी0 पाण्डेय ने कहा कि मिडास परियोजना की अवधारणा जुलाई 2017 में प्रारंभ हुई, तदोपरान्त दिसम्बर 2017 में प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग भारत सरकार द्वारा मिडास परियोजना को स्वीकृति प्रदान की गई। इस परियोजना के माध्यम से केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का ग्रामीण स्तर पर तकनीकी के माध्यम से सतत अनुश्रवण व बेहतर क्रियान्वयन किया जाएगा। यह परियोजना भारत सरकार के डिजीटल इण्डिया की दिशा में एक नवीन प्रयास है। योजनाओं की भौतिक प्रगति व परिणामों का आंकलन कर विभागीय स्तर पर निर्णय लिए जाने में सहायता होगी, इसके अलावा योजनाओं के क्रियान्वयन के स्थानीय स्तर पर आने वाली वास्तविक समस्याओं की पहचान कर विभागीय अधिकारियों द्वारा उनका समाधान सुनिश्चित किया जाएगा। सीडीओ उग्रसेन पाण्डेय ने बताया कि अधिकारियों को शीघ्र ही इस परियोजना के तहत प्रशिक्षण दिया जाएगा, जिससे गांव में जाने के दौरान किसी भी प्रकार की समस्या उत्पन्न न हो। परियोजना के माध्यम से योजनाओं के क्रियान्वयन में पारदर्शिता आएगी, साथ ही वास्तविक पात्रजन योजनाओं से लाभान्वित हो सकेंगे।जाइंट मजिस्ट्रेट महेन्द्र सिंह तंवर एवं जिला सूचना विज्ञान अधिकारी संजय कुमार ने संयुक्त रूप से मॉनीटरिंग इंटीग्रेटिड एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर “मिडास“ के तकनीकी पहलुओं पर विस्तार से जानकारी देते हुए कहा कि यह प्रोजेक्ट सभी विभागों के लिए लाभदायक है। सभी विभागीय अधिकारियों को अपने-अपने विभाग की योजनाएं ग्रामीण स्तर पर क्रियान्वित करने में सहायता मिलेगी। सभी विभागीय अधिकारी यह प्रयास करें कि परियोजना के माध्यम से वास्तविक पात्र उनके विभागीय योजनाओं का लाभ ले सकें।इस अवसर पर एसटीओ गजेन्द्र सिंह, डीडीओ एसएन सिंह कुशवाह, पीडीडीआरडीए अजय कुमार पाण्डेय, प्रभारी सीएमओ डा0 चन्द्रशेखर शर्मा, प्राचार्य डायट मनोज कुमार गिरि, डीसी मनरेगा पीसी यादव, सहायक निदेशक सूचना यतीश चन्द्र गुप्ता, बीएसए एसके शुक्ल, एडीईओ सुधाकर मैथिल, एडीईओ राजेन्द्र कुमार भारती, डीएसटीओ रमेश चन्द्र, पीओ डूडा सुभाषवीर सिंह राजपूत, डीपीओ एसपी पाण्डेय, डीपीओ एसपी सिंह सहित अन्य विभागीय अधिकारी, कर्मचारी आदि मौजूद रहे।