अन्य खबरें

जिला जज तथा आलाधिकारियों ने कोर्ट माॅनिटरिंग की मीटिंग कर दी सिस्टम की जानकारी

 

एटा, – जिला जज जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा जिला सत्र न्यायालय परिसर में स्थित मीटिंग हाॅल में समस्त राजपत्रित अधिकारी एवं थाना प्रभारी एवं थाने के पेरोकारों एवं विभिन्न न्यायालयों में नियुक्त कोर्ट मोहर्रिरों की मीटिंग ली गयी।जिला जज महोदय द्वारा कोर्ट माॅनिटरिंग सिस्टम की जानकारी देते हुए न्यायालय में लम्बित चल रहे मुकदमों की बेहतर पैरवी एवं सुनवाई से सम्बन्धित अन्य न्यायिक कार्यों के निष्पादन हेतु आवश्यक दिशानिर्देश दिए गये। बैठक के दौरान जिलाधिकारी एटा द्वारा बताया गया कि इस कोर्ट मानिटरिंग सिस्टम को लागू किये जाने के उद्देश्य से कोर्ट मानिटरिंग सेल का गठन किया गया है, जो प्रतिदिन थानों से जाने वाले गवाहों आदि की जानकारी करेगी तथा उनसे सम्बन्धित केस के सम्बन्ध में कोर्ट में की गयी कार्यवाही की जानकारी कर रजिस्टर में अंकित करेंगे तथा महत्वपूर्ण तथ्यों एवं केस के सम्बन्ध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को जानकारी देंगे। कोर्ट मानिटरिंग सेल में नियुक्त अधिकारी एवं कर्मचारीगण कोर्ट में होने वाली सुनवाई का पूरा ब्यौरा रखेंगे जिसकी समयसमय पर एसएसपी एटा द्वारा समीक्षा भी की जायेगी।

इस प्रकार होने वाली कार्यवाही से अभियोगों के समयबद्ध निस्तारण में सहायता मिलेगी और कोर्ट से शमन जारी होने के बाद भी गवाही हेतु नहीं आने वाले गवाहों की पहचान कर कोर्ट की सुनवाई में उनकी उपस्थिति सुनिश्चित करायी जा सकेगी। विभिन्न कारणों से काफी समय से लम्बित चल रहे अभियोगों पर विशेष ध्यान रखा जायेगा तथा कोर्ट में उसके अधिक दिनों से लम्बित रहने के कारणों का पता लगाते हुये यथासम्भव निस्तारण का प्रयास कराया वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा समस्त कोर्ट मोहर्रिर को निर्देशित किया गया कि प्रत्येक दिन उनके थाने से 01 0नि0 कोर्ट में उनके थाने से सम्बन्धित मामलों की सुनवाई हेतु सुबह सम्बन्धित गवाहों एवं अन्य प्रपत्रों को लेकर कोर्ट में जायेंगे और सायंकाल वापस आने के पश्चात उस दिन की प्रगति प्रपत्र को सम्बन्धित रजिस्टर में अंकित करते हुये फाइल में लगाकर सुरक्षित रख देंगे। इसके लिए प्रत्येक केस की अलगअलग फाइल बनायी जायेगी तथा उसमें पुलिस द्वारा की जाने वाली समस्त कार्यवाही/प्रपत्र एवं न्यायालय द्वारा की जाने वाली समस्त कार्यवाही/प्रपत्र एवं वर्तमान स्थिति के सम्बन्ध में सूचना/प्रपत्र सुरक्षित रखे जायेंगे, ताकि किसी भी केस के विषय में जानकारी मांगने पर त्वरित प्रमाणिक जानकारी उपलब्ध करायी जा सके एवं कोर्ट की कार्यवाही में पुलिस की सक्रिय भूमिका सुनिश्चित की जा सके।वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा जनपदीय पुलिस व्यवस्था को मजबूत एवं निष्पक्ष बनाये जाने के उद्देश्य से अत्याधुनिक संसाधनों का अधिकाधिक उपयोग करने पर बल दिया जा रहा है। साथ ही पुलिसकर्मियों को उनके कार्यों में दक्ष बनाये जाने के उद्देश्य से समयसमय पर कार्यशाला का आयोजन कर उन्हें आवश्यक दिशानिर्देश देते हुए प्रशिक्षित भी किया जाता है। महोदय द्वारा बेहतर संचार एवं सूचना हेतु तीव्र एवं आधुनिक संचार साधनों जैसे इन्टरनेट आदि का भी अधिक से अधिक प्रयोग किये जाने पर विशेष बल दिया जा रहा है।